2020-03-13

data:post.title


आपने देखा होगा कि कुछ समय बाद आपके स्मार्टफोन की बैटरी जल्दी-जल्दी डिस्चार्ज होना शुरू हो जाती हैं और आप महसूस करते हो कि आपके फ़ोन की बैटरी अब पहले जितनी नहीं चल पा रही है। इस आर्टिकल में आपको कुछ ऐसी टिप्स और तथ्य बताने वाला हूँ जिनके बारे संभवतः बहुत कम लोगों को ही पता होगा और ये टिप्स आपके फोन की बैटरी को लंबे समय तक बचाए रखने के लिए बहुत काम आने वाले हैं। अतः इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें। इस लेख में मैंने फोन की बैटरी के संपूर्ण जीवनकाल और दैनिक बैकअप समय के बारे में भी कुछ उपयोगी और जरूरी बातें बताने की कोशिश की है।
Battery Saving Tips Images

स्मार्टफोन की बैटरी लाइफ को कैसे बढ़ाएं, ये जानने से पहले आपको ये जरूर जानना चाहिए कि जो ये स्मार्टफोन की चार्जिंग और डिस्चार्ज की साईकल या मैं कहूँ चक्र कैसे काम करता है और इसका मतलब क्या होता हैं ? तो मैं आपको एक जरूरी नियम बता दूं जो लिथियम बैटरी निर्माता खुद बताते हैं। वो बताते हैं कि जब भी आपका फ़ोन 400 बार चार्जिंग चक्र पूरा कर लेता हैं तो उसकी बैटरी की क्षमता सामान्य से 20% कम हो जाती हैं। अब आपके दिमाग में सवाल आ रहा होगा कि ये बैटरी चक्र क्या होता हैं? इसे ऐसे समझते हैं कि जब भी आपका स्मार्टफोन 0 से 100% तक चार्ज होता हैं तो वह एक चक्र पूरा कर लेता है। या फिर 0 से 50%  बार चार्ज करने के बाद जब अगली बार आप 0 से 50% चार्ज कर लेते हो तो एक चार्जिंग चक्र पूरा हो जाता है। तो अब आप जान गए होगे कि चार्जिंग चक्र क्या होता है। चलिए अब मैं आपको कुछ टिप्स बताता हूँ जो आपकी बैटरी की लाइफ को काफी हद तक बड़ा सकते हैं।

फोन की बैटरी को कितना चार्ज करना चाहिए?

अगर बैटरी एक इंसान होती तो वो 0-20% तक चार्ज पर काफी खराब महसूस करती और अगर 40-80 % तक चार्ज रहती तो काफी अच्छा महसूस करती लेकिन जब 90% तक या इससे ज्यादा चार्ज रहती तो काफी दबाव महसूस करती।  आसान शब्दों में कहूँ तो आपको फ़ोन को इसी रेंज में चार्ज रखना है, मतलब जब आपका फ़ोन 20% के आसपास तक आ जाये तो चार्जिंग पर लगा दें और 80-85% होने पर हटा दें। सिर्फ आप इतना भी करेंगे तो आप पाओगे की 0-100% चार्ज करने की तुलना में जब आप 20-85% तक चार्ज करते हो तो बैटरी की लाइफ 20% तक बड़ जाएगा।

फोन की बैटरी पर फास्ट चार्जिंग का क्या प्रभाव पड़ता हैं?

आजकल मिड-रेंज के फ़ोन भी फास्ट चार्जिंग के साथ आने लगे हैं कंपनियां कहती है कि 50W का चार्जर है 25 मिनिट में 0-100% यानि कि फुल बैटरी चार्ज हो जाती है। लेकिन क्या आप जानते हों जितनी ज्यादा फास्ट चार्जिंग होगी बैटरी के ऊपर उतना ही ज्यादा दबाव बनता है और बैटरी गर्म भी होती हैं तो। एक बात और बताऊँ ये हीट या  ताप बैटरी का बड़ा दुश्मन है, कोशिश कीजिये जब भी आप फ़ोन चार्जिंग पर लगाएं तो तापमान कम हो, इसलिए मैं कहता हूं कि चार्ज करते समय अपने फ़ोन का कवर हटा कर रखना चाहिए। फास्ट चार्जिंग आपका काफी ज्यादा समय बचाती है पर इससे बैटरी पर उतना ही बुरा प्रभाव भी पड़ता है। मेरा तो मानना है कि जब फास्ट चार्जिंग की बहुत ज्यादा जरूरत हो तभी इस्तेमाल करें अन्यथा सामान्य चार्जिंग ही करें। स्लो या सामान्य चार्जर से चार्ज करने पर आपकी बैटरी की लाइफ कुछ हद तक अवश्य बढ़ेगी। अगर आप समान बैटरी के दो फोन लो और एक को फास्ट चार्जर से चार्ज करे जबकि दूसरे को नॉर्मल चार्जर से तो आप पाओगे की नॉर्मल चार्जर वाले फ़ोन की बैटरी लाइफ फास्ट चार्जिंग वाले फोन की तुलना में ज्यादा होगी। 

क्या पूरी रात फ़ोन को चार्जिंग पे लगा के रखना सुरक्षित हैं?

हमेशा ये सवाल लोगों के दिमाग में रहता है कि क्या फ़ोन को पूरी रात चार्जिंग पे लगाना सुरक्षित हैं? तो अगर आपका चार्जर 5W या 10W का है तो कोई दिक्कत नहीं लेकिन फास्ट चार्जर के साथ फोन को पूरी रात तक चार्ज नहीं करना चाहिए। फास्ट चार्जर सिर्फ आधे से एक या डेढ़ घण्टे में बैटरी को पूरी तरह चार्ज कर देता है। ऐसा करने से कुछ होता तो नहीं है लेकिन फ़ोन थोड़ा ज्यादा ही गर्म होने लग जायेगा और ऐसा करना ठीक भी नहीं है। स्लो चार्जर के साथ मुझे नहीं लगता की कोई परेशानी होगी कम से कम आज के मॉडर्न फोन्स और बैटरीज में तो नहीं होनी चाहिए।

ऑरिजिनल चार्जर का ही उपयोग करना चाहिए

ये बात तो आपने कही बार सुनी ही होगी कि कभी भी मार्केट से दूसरी थर्ड पार्टी कंपनियों के चार्जर से फोन को चार्ज नहीं करना चाहिए। हमेशा अपने फ़ोन के साथ आने वाले ऑरिजिनल चार्जर से ही फ़ोन को चार्ज करें। अगर आप फोन के ऑरिजिनल चार्जर से बैटरी चार्ज नहीं करते हो तो ऐसा करने से आपकी बैटरी को सबसे ज्यादा नुकसान होता है। मान लीजिए कि अगर आपके पास Samsung का गैलेक्सी M30 है तो उस फ़ोन के डिब्बे में जो चार्जर आया है सिर्फ उससे ही चार्ज कीजिए। अगर खराब हो गया हो तो ऑरिजिनल ही लीजिए कुछ 200-400 रुपये आपके ज्यादा लगेंगे लेकिन ऑरिजिनल चार्जर ही लीजिए। ठीक इसी तरह चार्जिंग केबल भी ऑरिजिनल ही काम में ले। खराब, डुप्लीकेट या किसी थर्ड पार्टी कंपनी के चार्जर के इस्तेमाल से आपके फ़ोन की बैटरी के फटने के भी खतरा रहता हैं।

चार्जिंग के समय वातावरण कैसा होना चाहिए?

आपको फोन को ज्यादा गर्म या ठण्डे तापमान में नहीं रखना चाहिए। मान लीजिये की अगर आप किसी ठण्डे इलाके में रहते हो तो फ़ोन को बाहर चार्ज न करें इससे बैटरी पर काफी दबाव बनता है, या फिर आप किचन में हो तो आग या किसी गर्म चीज के पास भी फोन को चार्जिंग पर नहीं लगाए। सामान्य तापमान पर फ़ोन को चार्ज कीजिये ज्यादा गर्म या ठंडा तापमान बैटरी के लिए सही नहीं हैं।

क्या फोन को स्विच ऑफ करके रखना चाहिए?

अगर आपको फोन को 1 या 2 महीने के लिए काम में नहीं लेना है तो उसे स्विच ऑफ करके नहीं रखे। ये बात काफी कम लोग जानते होंगे कि फोन को स्विच ऑफ करने के बाद बैटरी और ज्यादा तेजी से अपनी क्षमता खोती जाती हैं, इसका मतलब एक फोन अगर आप 20-40% तक चार्ज करो फिर कुछ सप्ताह बाद फिर से 20-40% चार्ज करो और रख दो, ये जो बैटरी होगी ये काफी स्वस्थ होगी। अगर आपने फ़ोन को स्विच ऑफ या बंद करके रख दिया तो बैटरी की क्षमता कम होगी, ऐसा विशेषज्ञ मानते हैं।

बैटरी बैकअप समय को कैसे बढ़ाये?

अगर एमोलेड डिस्प्ले (amoled screen) हो फोन में तो कैसे बैटरी बचाए?

आजकल फास्ट चार्जिंग के साथ फोनों मे एमोलेड स्क्रीन्स (amoled screen) भी आने लगी है। अब मैं आपको कुछ ऐसी टिप्स बताऊंगा जिसकी मदद से अगर आपके पास एमोलेड स्क्रीन वाला फ़ोन है जो सामन्यतः 10 घण्टे का बैटरी बैकअप देता हो तो आप उसे कैसे 10 घंटे की बजाए 14-15 घंटों तक का बैटरी बैकअप पा सकें। सबसे बड़ी चीज जो आप आपके एमोलेड स्क्रीन वाले फ़ोन में कर सकते है वो हैं डार्क या ब्लैक वॉलपेपर का उपयोग करना। एमोलेड स्क्रीन में ब्लैक कलर की जगह पर LED लाइट्स बन्द हो जाती हैं। तो एमोलेड स्क्रीन्स में जहाँ भी आपको ब्लैक कलर दिखता है वहाँ बैटरी कम खर्ज होती हैं। याद रखिये डिस्प्ले में सबसे ज्यादा बैटरी की खपत होती है, लेकिन अगर आप एमोलेड डिस्पले पे ब्लैक वॉलपेपर्स का उपयोग करोगे तो आपकी बैटरी 20-30% तक कम खर्च होगी। 

स्क्रीन की ब्राइटनेस या चमक कितनी रखनी चाहिए ?

मुझे पता नहीं क्यों बहुत सारे लोग अपने फोन में फुल ब्राइटनेस रखते हैं। जैसा मैंने कहा डिस्प्ले सबसे ज्यादा बैटरी लेती है, तो हो सके तो ब्राइटनेस को ऑटो पे रखे लेकिन फिर लाइट सेंसर्स ज्यादा बैटरी काम में लेते है। सबसे बढ़िया है कि आप मैन्युअली ब्राइटनेस को कम ज्यादा करें, जी हाँ इसमे आपको थोड़ा ध्यान रखना पड़ेगा लेकिन अगर आपको बैटरी बचानी है तो थोड़ी मेहनत करनी ही पड़ेगी। जब भी आप बाहर जाते हो तो ब्राइटनेस को बड़ा दीजिये और अंदर या कम रोशनी में आ जाओ तो ब्राइटनेस को फिर से कम कर दीजिए।

सॉफ्टवेयर अप्डेट्स

जब भी आपके फ़ोन में सॉफ्टवेयर अपडेट आएं तो तुरंन्त मत कीजिये, बहुत बार ऐसा होता है कि कुछ बग्स (Bugs) आ जाते हैं। आपने तो काफी बार सुना ही होगा कि इस अपडेट में बग्स आ गए या फोन कुछ गड़बड़ करने लगा। तो कुछ समय तक इंतजार करें फिर अपने फोन के सॉफ्टवेयर को अपडेट करें अन्यथा आपकी बैटरी पर इसका दुष्परिणाम हो सकता है।

एप्लीकेशन उपयोग या यूसेज

फेसबुक जैसे एप्लीकेशन को कम ही यूज करें या नहीं करें जो बैकग्राउंड में चलते रहते हैं। बैकग्राउंड में चलने वाले ऐसे एप्लीकेशन आपके फोन की बैटरी को तो मार ही डालते हैं। फेसबुक लाइट और मैसेंजर लाइट जैसे एप्लीकेशन को कम में ले वो कम बैटरी खाते हैं। आपके फोन की सेटिंग में बैटरी यूसेज में जाकर देखिए कि कौन से वो एप्लीकेशन है जो आपकी ज्यादा बैटरी खर्च करते है, उन्हें हटा दीजिये।

स्क्रीन टाइमआउट

बहुत बार जब आप फोन को चलाने के बाद बिना पावर ऑफ बटन दबाये रख देते हो तो फिर आपके फोन की स्क्रीन खुद ही कुछ टाइम बाद बन्द हो जाती है। स्क्रीन को बंद होने में जो समय लगता है उसे स्क्रीन टाइमआउट समय कहते हैं। अतः आपको आपके फ़ोन का स्क्रीन टाइमआउट 30 सेकंड या उससे कम ही रखना चाहिए। क्योंकि बहुत बार हम स्क्रीन ऑफ करना भूल जाते है और फ़ोन 1-2 मिनट तक चालू ही रहता हैं। इससे अधिक बैटरी की खपत होती है। 

बैटरी सेवर मोड

आजकल तो हर फोन में बैटरी सेवर मोड आने लगा है। जब भी आपको लगे कि आपके फोन की बैटरी काफी कम हो गयी है और अभी आपके पास चार्जर नहीं है तो फोन को पावर सेवर मोड में डाल दीजिये। इससे आपके फोन के एंटीना (जैसे NFC और GPS) और सेंसर्स बन्द हो जाते है और वो बैटरी को काम मे नहीं लेते हैं।

बैटरी सेविंग एप्लीकेशन

अब एंड्रॉयड काफी ऑप्टिमाइज़ हो गया है जितना हो सके वो उतनी बैटरी सेव करता है, तो आपको बैटरी सेव करने के लिए अलग से बैटरी सेविंग एप्लीकेशन का उपयोग नहीं करना चाहिए। ये ऍप्लिकेशन्स बैकग्राउंड में चलती रहती है और खुद ही काफी ज्यादा बैटरी खाती हैं। 

बैटरी रिप्लेसमेंट

अगर आपका फोन काफी ज्यादा पुराना हो गया है तो सबसे अच्छा रहेगा कि आप आपके फोन की बैटरी नई लगवा लीजिये। लेकिन ये ध्यान रखे कि बैटरी ऑरिजिनल ही लगवाए कुछ रुपये का ही अंतर पड़ेगा लेकिन आपका फोन ठीक पहले जैसा हो जाएगा और उतना ही बैटरी बैकअप देगा।

दोस्तो उम्मीद है आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा। अब मेरा एक सवाल है आप कमेंट में जवाब दीजिएगा कि आपका फोन कितना बैटरी बैकअप देता है और अभी इस समय आप जब ये आर्टिकल पढ़ रहे हो आपके फोन की बैटरी कितनी है, कमेंट करके जरूर बताएं। दोस्तो कैसा लगा ये आर्टिकल, अच्छा लगा हो तो शेयर भी कीजिये ताकि आपके मित्रों को भी पता चले कि कैसे वो स्मार्टफोन की बैटरी लाइफ बड़ा सकते हैं।
  • फेसबुक कमेंट
  • 4गूगल कमेंट