Phonetic typing in Indian Languages

Speech to Text Typing | बोलकर कीजिए टाइप

Click on the microphone icon and begin speaking.

Press Control-C [Command-C on Mac] to copy text.
  

Thursday, November 24, 2016

हिंदी साहित्य का आदिकाल : नामकरण और औचित्य

हिंदी साहित्य को एक व्यवस्थित स्वरूप में प्रस्तुत करने के उद्देश्य से विद्वानों ने साहित्य के इतिहास को कई काल-खण्डों में विभाजित किया है। साहित्य के काल विभाजन के बाद अध्ययन की सुविधा को ध्यान में रखते हुए तथा तत्कालीन प्रवृत्तियों व समय के अनुरूप प्रत्येक काल-खण्ड को एक अलग नाम दिया गया, यथा- आदिकाल, भक्तिकाल, रीतिकाल व आधुनिक काल आदि। हिंदी साहित्य के काल विभाजन एवं नामकरण के पीछे विभिन्न विद्वानों द्वारा अपने-अपने विचार रखते हुए उसके औचित्य को सिद्ध करने के प्रयास किए गए।


आइए, इस आलेख में हम हिंदी साहित्य के “आदिकाल के नामकरण और उसके औचित्य” के संबंध में हिंदी के कुछ प्रमुख आलोचकों और विद्वानों के विचारों और सिद्धांतों को जानने व समझने की कोशिश करते हैं -

आचार्य शुक्ल का नामकरण:-

  • 1929 ई. में प्रकाशित तथा शुक्ल जी द्वारा लिखित प्रथम तर्क संगत एवं अधिकांश विद्वानों द्वारा प्रमाणित “हिन्दी साहित्य का इतिहास” में आदिकाल (1050- 1375 ई.) को “वीरगाथा काल” नाम दिया गया ।
  • इस नामकरण का मुख्य आधार उस समय “वीरगाथाओं की प्रचुरता और उनकी लोकप्रियता” को माना गया।

साहित्य सामाग्री:-

शुक्ल जी ने “वीरगाथा काल” नामकरण के लिए निम्नलिखित 12 रचनाओं को आधारभूत साहित्य सामग्री के रूप में स्वीकार किया:-

क्र. सं. रचना का नाम रचनाकार रचनाकाल टिप्पणी
1. विजयपाल रासो नल्ल सिंह 1350 वि. मिश्र बंधुओं ने समय 1355 वि. माना है
2. हमीर रासो शारंगधर 1350 वि. यह ग्रंथ आधा ही प्राप्त है
3. कीर्ति लता विद्यापति 1460 वि. समय सीमा से बाहर
4. कीर्ति पताका विद्यापति 1460 वि. समय सीमा से बाहर
5. खुमान रासो दलपति विजय 1290 वि. मोतीलाल मेनारिया ने इसका समय 1545 वि. माना है
6. बीसलदेव रासो नरपति नाल्ह 1292 वि. प्रामाणिकता संदिग्ध है
7. प्रथ्वीराज रासो चंद्रबरदाई 1225-40 वि. स्वयं शुक्ल जी ने इस ग्रंथ के अर्ध-प्रामाणिक माना है
8. जयचंद्र प्रकाश भट्ट केदार 1225 वि. रचना अप्राप्त है, उल्लेख मात्र मिलता है
9. जयमयंक जस चन्द्रिका मधुकर कवि 1240 वि. रचना अप्राप्त है, उल्लेख मात्र मिलता है
10. परमाल रासो जगनिक 1230 वि. मूलरूप अज्ञात
11. खुसरो की पहेलियां अमीर खुसरो 1350 वि. वीरगाथाओं की परिपाटी से विचलन
12. विद्यापति पदावली विद्यापति 1460 वि. समय सीमा से बाहर

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के शब्दों में:- “इसी संक्षिप्त सामाग्री को लेकर थोड़ा-बहुत विचार हो सकता है, इसी पर हमें संतोष करना पड़ता है।

शुक्ल जी के नामकरण की आलोचना:-

शुक्ल जी द्वारा आदिकाल का नामकरण वीरगाथा काल के रूप में किए जाने के संबंध में विभिन्न विद्वानों में मतभेद रहे हैं। इस बारे में कुछ प्रमुख विद्वानों के मत निम्नानुसार हैं:-
  • शुक्ल जी ने अनेक रचनाओं को अपभ्रंश की कहकर हिन्दी के खाने से अलग कर दिया है। जबकि स्वयं उनके द्वारा चुनी गई 12 राचनाओं में प्रथम 4 अपभ्रंश की ही शामिल हैं।
  • पं. चंद्रधर शर्मा गुलेरी के अनुसार “अपभ्रंश मिश्रित हिंदी ही पुरानी हिंदी है।
  • डॉ. त्रिगुणायत के अनुसार “अपभ्रंश मिश्रित तमाम रचनाएँ, जिनके संबंध में कुछ विद्वानों को अपभ्रंश की होने का भ्रम हो गया है, पुरानी हिंदी की रचनाएँ ही मानी जाएंगी।"
  • राहुल सांकृत्यायन हजारी प्रसाद द्विवेदी आदि के अनुसार 850 वि. के आस-पास उपलब्ध अपभ्रंश की मानी जानी वाली रचनाएँ, हिन्दी के आदिकाल की सामाग्री के रूप में हैं। इसी आधार पर सिद्ध सरहपा को हिन्दी का प्रथम कवि माना जाएगा।

विभिन्न विद्वानों द्वारा दिए गए नाम और उनका औचित्य:-

हिंदी साहित्य के प्रथम पड़ाव अर्थात आदिकाल को विभिन्न विद्वानों द्वारा कई अलग-अलग नामों से अभिहित किया गया है। आदिकाल के के नामकरण के संबंध में कुछ प्रमुख विद्वानों के मत निम्नानुसार हैं -
  • आचार्य शुक्ल:- वीरगाथाओं की प्रचुरता और लोकप्रियता के आधार पर “वीरगाथा काल” नाम दिया।
  • डॉ. हजारी प्रसाद द्विवेदी:- द्विवेदी जी के अनुसार वीरगाथा नाम के लिए कई आधार ग्रंथ महत्वपूर्ण और लोकप्रिय नहीं हैं तथा कइयों की प्रामाणिकता, समयसीमा आदि विवादित है। अत: “आदिकाल” नाम ही उचित है, क्योंकि साहित्य की दृष्टि से यह काल अपभ्रंश काल का विकास ही है।
  • रामकुमार वर्मा:- रामकुमार वर्मा ने इसे “चारण काल” कहा। उनके अनुसार इस काल के अधिकांश कवि चारण अर्थात राज-दरबारों के आश्रय में रहने वाले व सम्राटों का यशगान करने वाले ही थे।
  • महावीर प्रसाद द्विवेदी:- आरम्भिक अवस्था या कहें कि हिंदी साहित्य के बीज बोने की समयावधि के आधार पर महावीर प्रसाद द्विवेदी जी ने इस काल को “बीज-वपन काल” कहा। वैसे यह नाम भी आदिकाल का ध्योतक है।
  • राहुल सांकृत्यायन:- सिद्ध सामंत युग, उनके अनुसार 8वीं से 13 वीं शताब्दी के काव्य में दो प्रवृत्तियां प्रमुख हैं- 1.सिद्धों की वाणी- इसके अंतर्गत बौद्ध तथा नाथ-सिद्धों की तथा जैन मुनियों की उपदेशमूलक तथा हठयोग से संबंधित रचनाएँ हैं। 2.सामंतों की स्तृति- इसके अंतर्गत चारण कवियों के चरित काव्य (रासो ग्रंथ) आते हैं।
  • चंद्रधर शर्मा गुलेरी:- गुलारी जी ने अपभ्रंश और पुरानी हिंदी को एक ही माना है तथा भाषा की दृष्टि से अपभ्रंश का समय होने का कारण उन्होने इसे “अपभ्रंश काल” का संज्ञा दी है।

निष्कर्ष:-

हिंदी साहित्य के प्रथम सोपान का नामकरण या कहें कि आदिकाल के नामकरण की समस्या पर अनेक विद्वानों ने अलग-अलग तर्कों व साक्ष्यों के आधार पर अपने-अपने मतानुसार किया है। जैसा कि उपर्युक्त विवेचन से स्पष्ट है कि अधिकांश विद्वान कोई सर्वमान्य नाम नहीं दे सके। वविश्वनाथ प्रसाद मिश्र ने इस काल को ‘वीर काल’ कहा जो शुक्ल जी द्वारा प्रदत्त नाम का ही संक्षिप्त और सारगर्भित रूप है। काशी नागरी प्रचारिणी सभा द्वारा प्रकाशित “हिन्दी साहित्य का बृहद इतिहास” में अनेक ऊहापोह के बाद ‘वीरगाथा काल’ नाम को ही उचित माना गया। अत: जब तक कोई निर्विवादित रूप से स्वीकार्य और प्रचलित नाम नहीं आता तब तक ‘वीरगाथा काल’ को ही मानना समीचीन होगा।

Tuesday, November 15, 2016

हिंदी एवं अन्य भारतीय भाषाओं की प्रगति में तकनीकी का योगदान

आज का युग तकनीक का है, जिसे हम "टेक्नोयुग" भी कह सकते हैं, इसलिए आपने देखा होगा कि आज-कल हम प्रत्येक काम में टेक्नोलॉजी का भरपूर प्रयोग करते हैं। उदाहरण के तौर पर अब कोई भी पहले जैसा 25 पैसों वाला पोस्ट कार्ड या 75 पैसों वाला अंतर्देशीय पत्र खरीद कर चिट्ठियां लिखना पसंद नहीं करता है। इसकी बजाय हम मोबाइल पर एसएमएस या ई-मेल टाइप कर चुटकियों में अपना काम निपटाने में माहिर हो गए हैं। बच्चे भी आज-कल अपनी पढ़ाई ई-लर्निंग और ई-क्लासेस के माध्यम से पूरी करने लगे हैं। कुल मिला कर देखें तो हम अब टेक्निकली स्मार्ट बन गए है या स्मार्ट बनने के लिए कुछ-कुछ इस रास्ते पर चल पड़े हैं। खास बात ये है कि इन सब में हमारी नई पीढ़ी हमसे अधिक तेजी से दौड़ रही है।


आइए अब इसी तकनीक को थोड़ा भाषा के साथ जोड़कर भी देखते हैं। आज कल हम सभी कंप्यूटर पर आसानी से टाइपिंग कर लेते है, जैसे ई मेल भेजना, फेसबुक स्टेटस अपडेट करना या चैटिंग करना आदि। मुझे याद है जब सबसे पहले मैंने कंप्यूटर पर अपना नाम टाइप करके देखा था तब मैंने अंग्रेजी में ही किया था। क्योंकि, हिंदी या मराठी में यह सुविधा उपलब्ध होगी ही नहीं यह मानकर हमने कंप्यूटर और मोबाइल पर अंग्रेजी की-बोर्ड को देखकर अंग्रेजी में ही काम करना शुरू किया था। लेकिन जैसे-जैसे आगे बढ़ते गए वैसे-वैसे तकनीकी की नई-नई बातें पता चलती गईं। वर्ष 2007 में जब मैंने खादी और ग्रामोद्योग के चंडीगढ़ स्थित कार्यालय में कनिष्ठ हिंदी अनुवादक के रूप में काम करना शुरू किया तब सबसे पहले मैंने हिंदी में कंप्यूटर पर काम करना आरम्भ किया। आगे जब मुंबई के मुख्यालय में मेरा स्थानांतरण हुआ तब वर्ष 2010 में सबसे पहले यह पता चला की हिंदी (देवनागरी) के फॉन्ट दो प्रकार के होते हैं- यूनिकोड फॉन्ट और नॉन-यूनिकोड फॉन्ट। इसके बाद मुझे "माइक्रोसॉफ्ट इंडिक लैग्वेज इनपुट टूल" के बारे में पता चला जो विंडोज एक्सपी और वि‍डोंज-7 पर चलता था। बाद में बैंक में पोस्टिंग मिलने पर कंप्यूटर पर अनिवार्य तौर से यूनिकोड में काम करना शुरू किया। इसके बाद कंप्यूटर पर हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में काम कैसे करें, इसपर मुझे अधिक जानकारी मिलनी शुरू हुई। माइक्रोसॉफ्ट इंडिक लैंग्वेज इनपुट टूल की सहायता से कोई भी व्यक्ति हिंदी या अन्य भारतीय भाषओं में आसानी से काम कर सकता है। यह टूल सभी एप्लिकेशनों पर सफलता पूर्वक कार्य करता हैं, और अंग्रेजी कीबोर्ड ले-आउट होने के कारण प्रयोग करने में भी सरल है। इसके बाद गूगल हिंदी इनपुट जो अंग्रेजी कीबोर्ड की सहायता से चलता हैं, के बारे में पता चला। फिर इनस्‍क्रिप्ट और बाराह आदि की जानकारी से कंप्यूटर पर हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं में उपलब्ध विविध तकनीकी सुविधाओं के बारे में पता चला।


हिंदी भाषा की वि‍शेषता यह हैं कि यह एक सर्वसमावेशी भाषा हैं, इसमें संस्‍कृत से लेकर भारत की प्रांतीय भाषाओं के साथ-साथ अंग्रेजी जैसी वि‍देशी भाषाओं के शब्‍दों को भी अपने अंदर समाहित करने की क्षमता है। तकनीकी के इस युग में हिंदी ने भी अपने परंपरागत स्वरूप को समय के अनुरूप ढाल लि‍या है। कंप्‍यूटर के साथ हिंदी भाषा ने अब चोली-दामन का साथ बना लि‍या है। आज तकनीक के प्रत्‍येक क्षेत्र में हिंदी को अपनाना आसान हो गया हैं। टाइपिंग की सुवि‍धा से लेकर वॉइस टाइपिंग की सभी सुवि‍धाऐं आज उपलब्‍ध है। आवश्‍यकता केवल हिंदी भाषा के उपयोगकर्ताओं द्वारा इन नवीनतम तकनीकी सुविधाओं को अपनाने भर की है। ओसीआर अर्थात ऑप्‍टीकल कैरेक्‍टर रिकग्नीशन अर्थात प्रकाश पुंज द्वारा वर्णों की पहचान कर पूराने देवनागरी हिंदी टेक्‍स को युनि‍कोड फॉंन्‍ट में परि‍वर्ति‍त करने की सुवि‍धा से पूरानी कि‍ताबों का डि‍जीटलाइजेशन करने में मदद मिल रही है। इससे संस्‍कृत भाषा में लि‍खे गये लेख सामग्री को आसानी से हिंदी के युनि‍कोड फॉन्‍ट में परि‍वर्ति‍त कि‍या जा सकता हैं। इस तकनीकी से पूराने शास्‍त्र, ग्रंथों के डि‍जीटलाइजेशन से ज्ञान के नए डिजिटल स्रोत खुल रहे हैं। प्राचीन ग्रंथों की दूर्लभ प्रति‍यों का डि‍जीटलाइजेशन करने से उनमें उपलब्‍ध ज्ञान का फायदा सभी को होगा।
भारत सरकार ने हिंदी में वि‍ज्ञान तथा तकनीकी साहि‍त्‍य और शब्‍दावलि‍याँ उपलब्‍ध कराने के उद्देश्य से वैज्ञानि‍क एवं तकनीकी शब्‍दावली आयोग (CSTT) की स्‍थापना की है। जि‍सका प्रमुख कार्य ज्ञान-वि‍ज्ञान तथा तकनीकी के विभिन्न क्षेत्रों में प्रयुक्त होने वाले शब्‍दों के हिंदी पर्याय उपलब्‍ध कराना और तत्संबंधी शब्‍दकोशों का नि‍र्माण करना है। यह आयोग हिंदी और अन्‍य भारतीय भाषाओं में वैज्ञानि‍क तथा तकनीकी शब्‍दावली के वि‍कास और समन्‍वय से संबंधि‍त सि‍द्धांतों के वर्णन और कार्यान्वयन का कार्य भी करता है। आयोग द्वारा तैयार की गई शब्‍दावलि‍यों को आधार मानकर वि‍भि‍न्‍न वि‍षयों की मानक पुस्‍तकों और वैज्ञानि‍क तथा तकनीकी शब्‍दकोशों का नि‍र्माण करने और उनके प्रकाशन कार्य भी किया जाता है। इस साथ ही उत्‍कृष्‍ट गुणवत्‍ता की पुस्‍तकों का अनुवाद भी कि‍या जाता हैं।

भारत की राजभाषा हिंदी को डिजिटल दुनियां में समृद्ध करने और बढावा देने में ऑनलाइन हिंदी पुस्तकों की महत्वपू्र्ण भूमिका सामने आ रही है। गूगल बुक्स और किंडल बुक्स आदि ऑनलाईन सुवि‍धाओं की सहायता से आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल फोन पर हिंदी या अन्य भारतीय भाषाओं की हजारों पुस्तकों को मुफ्त में अथवा पैसों का भुगतान करके पढ़ सकते हैं। गूगल बुक्स पर उपलब्ध पुस्‍तकों को आप कंप्‍यूटर या अपने लैपटॉप पर गूगल डाउनलोडर की सहायता से पीडीएफ फाईल में भी डाउनलोड करके रख सकते हैं। गूगल वॉइस टाइपिंग सेवा की सहायता से आप बोलकर टाइप कर सकते हैं। इस सुवि‍धा से हिंदी टाइपिंग के लि‍ए लगने वाले समय में काफी बचत हुई है। एन्ड्रॉइड मोबाइल पर हिंदी की ऑफलाइन शब्दावली सुवि‍धा अंग्रेजी और अन्‍य वि‍देशी भाषाओं के शब्‍दों के हिंदी शब्‍दार्थ ढूंढने में सहायक है। भाषा प्रौद्योगिकी तथा नित नई विकसित होने वाली तकनीकों से हिंदी के वि‍कास को और भी गति मि‍लेगी।

यह लेख स्‍टेट बैंक ऑफ मैसूर, हुब्‍बल्‍ली, कर्नाटक में उप प्रबंधक (राजभाषा) के पद कार्यरत श्री राहुल खटे || RAHUL KHATE जी द्वारा लिखा गया है। आप श्री राहुल खटे से उनके Facebook वाल या उनकी वेबसाइट www.rahulkhate.online के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं।

नोट: आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं। Hindi e-Tools || हिंदी ई-टूल्स का इनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।

Friday, October 28, 2016

कंप्यूटर पर ऑफलाइन वॉइस टाइपिंग, बिना क्रोम ब्राउज़र के

आजकल Google Voice Typing प्रणाली बहुत लोकप्रिय हो रही है। किंतु सभी लोगों को इसका पूरा-पूरा लाभ नहीं मिल पा रहा है। अभी तक वॉइस टाइपिंग की सुविधा का सर्वाधिक फायदा केवल Android Smart Phone रखने वाले लोग ही उठा पा रहे हैं। Windows या Linux कंप्यूटर पर बोलकर टाइप करने में अभी भी बहुत दिक्कतें हैं, जैसे :–
  1. यह सुविधा केवल क्रोम ब्राउज़र में ही उपलब्ध है।
  2. Google doc में टाइप करने के लिए आपके पास जीमेल खाता होना जरूरी है।
  3. सबसे महत्वपूर्ण, आप बिना इंटरनेट अर्थात ऑफलाइन माध्यम से वॉइस टाइपिंग नहीं कर सकते हैं।
यूं तो गूगल ने Android Phone पर ऑफलाइन माध्यम से हिंदी सहित कई भाषाओं में बोलकर टाइप करने की सुविधा उपलब्ध करा दी है। किंतु, कंप्यूटर पर अभी यह सुविधा ऑनलाइल माध्यस से ही उपलब्ध है और उसकी भी अपनी अनेक सीमाएं हैं।

तो आइए ! आज हम उपर्युक्त सभी सीमाओं को तोड़ते हैं और अपने Windows या Linux कंप्यूटर पर बिना क्रोम ब्राउज़र, बिना जीमेल खाता और बिना इंटरनेट के कुछ Software/ e-tools की मदद से आसानी से बोलकर टाइप करना सीखते हैं। सबसे खास बात है कि हम Google Doc में नहीं बल्कि MS Word या इसी तरह के किसी भी अन्य एप्लीकेशन में ऑफलाइन माध्यम से बोलकर टाइप करेंगे।


मैं आपको पहले ही बता चुका हूं कि Google ने एंड्रॉइड फोन पर ऑफलाइल वॉइस टाइपिंग की सुविधा उपलब्ध करा दी है। बस हम इसी की सहायता से अपने कंप्यूटर पर ऑफलाइन हिंदी वॉइस टाइपिंग करेंगे, अर्थात अपने Android फोन में उपलब्ध ऑफलाइन वॉइस टाइपिंग डाटाबेस/ लैंग्वेज पैक का इस्तेमाल करके अपने कंप्यूटर पर हिंदी में बोलकर टाइप करेंगे। इसके लिए आपको Intel के निम्नलिखित दो सॉफ्टवेयर/ एप्लीकेशन डाउनलोड करने होंगे -
  1. Intel® Remote Keyboard mobile app - इसे Google Play Store से डाउनलोड करके अपने एंड्रॉइड फोन (Android 4.0 and later) में इंस्टॉल कर लें। डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें। 
  2. Intel® Remote Keyboard host app - इसे Intel® Download Center से डाउनलोड करके अपने विंडोज (Windows 8.1 and later) या लिनक्स (coming in late 2015) कंप्यूटर पर इंस्टॉल कर लें। डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें। 

प्रयोग विधि (User Guide) :

STEP-1:

जैसे ही आप अपने कंप्यूटर पर Intel® Remote Keyboard host app को सफलता पूर्वक इंस्टॉल कर लेंगे, आपको सिस्टम ट्रे में नीचे दिखाए गए चित्र जैसा एक आइकन दिखाई देने लगेगा।



इसके अलावा एंड्रॉइड फोन में Intel® Remote Keyboard mobile app इंस्टॉल करने के बाद मोबाइल की स्क्रीन पर कुछ इस प्रकार का आइकन दिखाई देगा।


STEP-2:

अब आपको अपने एंड्रॉइड मोबाइल फोन में ऑफलाइन हिंदी वॉइस टाइपिंग की सुविधा एक्टिवेट कर लेनी है। एंड्रॉइड मोबाइल फोन में ऑफलाइन हिंदी वॉइस टाइपिंग एक्टिवेट कैसे करें, यह जानने के लिए आप यहां क्लिक करके यह वीडियो देख सकते हैं।

STEP-3:

मोबाइल फोन में ऑफलाइन हिंदी वॉइस टाइपिंग एक्टिवेट करने के बाद अपने एंड्रॉइड फोन और कंप्यूटर को किसी एक ही कॉमन WiFi नेटवर्क (मोबाइल या कंप्यूटर/ लैपटॉप का Hotspot अथवा कोई भी अन्य कॉमन नेटवर्क) के माध्यम से आपस में जोड़ना है। ध्यान दें, यहाँ WiFi में इंटरनेट डाटा का सक्रिय होना जरूरत नहीं है। इसके लिए Internet data की कोई आवश्यकता नहीं है, WiFi नेटवर्क का प्रयोग कंप्यूटर और एंड्रॉइड फोन को मात्र आपस में कनेक्ट करने के लिए किया जा रहा है ताकि हम अपने Android फोन में उपलब्ध ऑफलाइन वॉइस टाइपिंग डाटाबेस/ लैंग्वेज पैक का इस्तेमाल अपने कंप्यूटर पर वॉइस टाइपिंग के लिए कर सकें।


STEP-4:  एंड्रॉइड फोन और कंप्यूटर को आपस में जोड़ना
  1. अपने फोन और कंप्यूटर को आपस में जोड़ने से पहले सुनिश्चित करें कि:-
    • आपके कंप्यूटर पर सिस्टम ट्रे में (ऊपर बताए गए अनुसार) Intel® Remote Keyboard host app का आइकन दिखाई दे रहा है।
    • आपका एंड्रॉइड फोन और कंप्यूटर किसी एक ही कॉमन WiFi नेटवर्क से आपस में कनेक्टेड हैं।
  2. अब आप अपने मोबाइल फोन के Intel® Remote Keyboard mobile app को टैप करके चालू कर लें। जैसे ही मोबाइल एप चालू होगा, फोन की स्कीन पर डिवाइस लिस्ट में आपके कॉमन wifi से जुड़े कंप्यूटर (एक से अधिक भी हो सकते हैं) का विवरण दिखाई देने लगेगा।
  3. जिस कंप्यूटर से आपको Remote Keyboard mobile app से जोड़ना है डिवाइस लिस्ट में उसके नाम पर टैप /टच करके Pairing process आरम्भ कर दीजिए।
  4. पहली बार पेयरिंग करने के पर आपके कंप्यूटर की स्क्रीन पर एक QR code दिखाई देगा, जिसे अपने मोबाइल के कैमरे से स्कैन करके कंप्यूटर और मोबाइल को आपस में कनेक्ट करना होगा।
  5. कंप्यूटर और मोबाइल के आपस में कनेक्ट होते ही आपके मोबाइल फोन पर नीचे दिखाए गए चित्र के जैसी एक स्क्रीन दिखाई देने लगेगी, जिसके द्वारा आपका कंप्यूटर नियंत्रित किया जा सकता है। इसका मतलब है, अब आप अपने मोबाइल की स्क्रीन से वो सारे काम कर सकते हैं जो कंप्यूटर के मूल माउस और कीबोर्ड से किए जातें हैं। जी हां, टाइपिंग भी !

अधिक स्पष्ट और आसानी से समझने के लिए यह यूट्यूब वीडियो देखिए :


इस तरह अब आप android फोन में उपलब्ध ऑफलाइन वॉइस टाइपिंग डाटाबेस/ लैंग्वेज पैक का इस्तेमाल करके अपने कंप्यूटर पर MS Word आदि में ऑफलाइन वॉइस टाइपिंग करने के लिए तैयार हैं। बस कंप्यूटर पर MS Word की कोई नई फाइल खोलिए तथा अपने मोबाइल में ऑन Intel® Remote Keyboard app की स्क्रीन पर ऊपर की तरफ दिखाई दे रहे कीबोर्ड आइकन पर क्लिक करके Android मोबाइल का कीबोर्ड सक्रिय कीजिए और माइक के आइकन पर क्लिक करके सामान्य वॉइस टाइपिंग आरम्भ कर दीजिए। आब आप अपने फोन पर जो भी बोलेंगे, वो सब आपके कंप्यूटर पर टाइप होता दिखाए देगा।

तो अब अपने कंप्यूटर पर बिना क्रोम ब्राउज़र, बिना जीमेल खाता और बिना इंटरनेट के गूगल वॉइस टाइपिंग का आनंद लीजिए। और हां, यदि आपको हमारा यह तरीका जरा भी पसंद आया हो तो अपने अन्य हिंदी प्रेमी मित्रों को भी बताइए और प्लीज Facebook, Twitter, Google Plus व Email आदि पर शेयर करना मत भूलिएगा।

Monday, October 10, 2016

Google Sheets (Excel) Formula: एक साथ कई भाषाओं में अनुवाद

आइए जानते हैं, गूगल शीट (Excel) में Translation Function के द्वारा एक साथ कई भाषाओं में अनुवाद कैसे करें? मित्रो हम में से अधिकांश लोग एसएस एक्सेल से परिचित है और अपने कार्यालय के काम को तेजी से करने के लिए एक्सेल के कई सारे फंक्शन और फॉर्मूलाओं का प्रयोग करते हैं। क्या कभी आपने सोचा है कि यदि एक्सेल में अनुवाद का भी कोई Function होता, जिसके द्वारा हम एक साथ कई भाषाओं में अनुवाद कर सकते। जी हां, Google Sheets में यह सुविधा उपलब्ध है। गूगल शीट MS excel जैसा ही एक डॉक्यूमेंट होता है जिसमें अनुवाद का इनबिल्ट फ़ॉर्मूला / फंक्शन दिया गया है। इस ट्रांसलेशन फंक्शन के माध्यम से हम दुनिया भर की कई भाषाओं में अनुवाद कर सकते हैं।


आइए जानते हैं इसका प्रयोग कैसे करें:-


STEP-1:

सबसे पहले अपना इंटरनेट ब्राउज़र खोलें और www.docs.google.com यूआरएल टाइप करें। इसके बाद अपने Gmail अकाउंट से लॉगिन करें। अब आपके सामने Google Doc का होम पेज होगा, जिसमें बाईं तरफ ऊपर तीन समांतर लाइन के मीनू (लाल घेरे में) पर क्लिक करें।


STEP-2:

अब कुछ इस प्रकार की स्क्रीन दिखाई देगी, जिसमें आपको Sheets विकल्प पर क्लिक करना होगा। इसके बाद गूगल शीट का होम पेज खुलेगा, जिसमें प्लस (+) के निशान पर क्लिक करके एक नई Google Sheet खोली जा सकती है जो बिलकुल MS Excel जैसी होगी।


STEP-3:

अब इस शीट में हम गूगल के निम्नलिखित अनुवाद फ़ॉर्मूला का प्रयोग करके विभिन्न भाषाओं में एक साथ अनुवाद कर सकते हैं।

Formula Syntax:
=GoogleTranslate("text", "source language", "target language")

STEP-4:

गूगल शीट के किसी भी सेल में उपर्युक्त फ़ॉर्मूला टाइप करके चुटकियों में एक भाषा से दूसरी भाषा में अनुवाद कर सकते हैं। ऊपर दिए गए चित्र में देखें, स्प्रैडशीट के सेल A3 में अंग्रेजी भाषा में Hello लिखा गया है जिसका अनुवाद हमें सेल D3 में तमिल भाषा में करना है। इसके लिए हमें सेल D3 में Step-3 में बताए Syntax के अनुसार गूगल अनुवाद फॉर्मूला  =GoogleTranslate(A3, “en”, “ta”) टाइप करना होगा।  

Syntax के अनुसार इस फॉर्मूला में -
=====================================
Text = A3
source_language = “en” (English Language का गूगल कोड)
target_language = “ta” (Tamil Language का गूगल कोड)
=====================================

इसी तरह source_language और target_language बदल कर किसी भी भाषा में अनुवाद कर सकते हैं। सभी भाषाओं के कोड जानने के लिए यहां क्लिक करें। 

कुछ उपयोगी टिप्स:
  1. इस फॉर्मूला को Ms Excel के अन्य फॉर्मूलाओं की तरह ही एक Cell से दूसरे Cell में Copy- Paste करके भी प्रयुक्त किया जा सकता है।
  2. Syntax में उल्लिखित “text” के स्थान पर Cell_ID न लिख कर सीधे ही source_language का Text भी लिखा जा सकता है। जैसे, उपर्युक्त उदाहरण में दिए गए फॉर्मूला =GoogleTranslate(A3, “en”, “ta”) में A3 के स्थान पर सीधे ही “Hello” लिख कर =GoogleTranslate(“Hello”, “en”, “ta”) के रूप में भी प्रयोग किया जा सकता है।
यूट्यूब वीडियो देखें:

यदि आप अब तक Google Sheets की इस सुविधा का उपयोग नहीं कर रहे है, तो अभी आरम्भ कर दीजिए और अपने अनुवाद के भारी-भरकम काम को थोड़ा सा आसान बनाइए।

आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा ? इसके बारे में कमेंट बॉक्स के माध्यम से अपने सुझावों और विचारों से ज़रूर अवगत करांए।